Feb 20, 2012

झटक्यात...

बडी काली हो रात और फैला हो खौफ
और सिर्फ अंधेराही हो दिलों में छाए
पलट सकता है बाज़ी, उम्मीदका एक दिया
किसीके दिलमें रोशनीका खयाल तो आए

- राफा

8 comments:

श्रिया (मोनिका) said...

क्या बात है!बढ़िया!

राफा said...

मोनिका, Thanx a lot !

सुप्रिया.... said...

एकदम बढीया शायरी राफा :)


अवांतर म्हणायचं तर मी आयशॉट वाचून काढलं...
तुला त्यासाठी साशटांग नमसकार ;)
काय च्या काय लिहिता भाऊ तुम्ही :P :D
कल्ला...कलास .... :)

राफा said...

सुप्रिया,

कल्ला कॉमेंट बद्दल मंडळ आभारी आहे ! :)

sonalwaikul said...

mastch.

राफा said...

Thanks a lot Sonal !

Vinayak said...

मेरे दिल में उम्मीद का ख्याल इस खूबसूरती के सात लाने के लिए शुक्रिया

राफा said...

Thanks a lot Vinayak !!!